RBI ने शहरी सहकारी बैंकों को मजबूत बनाने के बारे में उपाय सुझाने हेतु समिति गठित की

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शहरी सहकारी बैकों को मजबूत बनाने के लिये दृष्टिकोण पत्र तैयार करने को लेकर 15 फरवरी 2021 को एक समिति गठित की. आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर एन एस विश्वनाथन की अध्यक्षता वाली समिति शहरी सहकारी बैंकों के मसले के समाधान के लिये उपाय सुझाएगी. साथ ही क्षेत्र में उनकी मजबूत स्थिति के लिये उनकी संभावनाओं का भी आकलन करेगी.

RBI
RBI

समिति को सौंपे गये नियम एवं शर्तों के मुताबिक उसे एक गतिशील और मजबूत शहरी सहकारी बैंक क्षेत्र के लिये दृष्टिोण पत्र तैयार करना है. यह सबकुछ सहयोग के साथ-साथ जमाकर्ताओं के हितों और प्रणाली से जुड़े मुद्दों को ध्यान में रखते हुए किया जाएगा. समिति को अपनी रिपोर्ट आरबीआई को तीन महीने में देनी है.

RBI
RBI

आठ सदस्यीय समिति


आठ सदस्यीय समिति में नाबार्ड (राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक) के पूर्व चेयरमैन हर्ष कुमार भानवाला भी शामिल हैं. समिति मौजूदा नियामकीय और निगरानी व्यवस्था की भी समीक्षा करेगी और क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिये सुझाव देगी.

RBI
RBI

पृष्ठभूमि

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने पहली फरवरी को प्रस्तुत 2021-22 के बजट में राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है. इस घाटे को मार्च 2026 में समाप्त वित्त वर्ष तक 4.5 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य है.

कोविड-19 महामारी से प्रभावित चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा जीडीपी के 9.5 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है. बजट में अगले वित्त वर्ष के दौरान 12 लाख करोड़ रुपये का बाजार से कर्ज जुटाने का लक्ष्य रखा है.

DRDO PXE Apprentice Recruitment 2021 for 69 Posts, Apply

Kiran Bedi removed as Lieutenant Governor of Puducherry, Telangana governor given additional charge

Join facebook page

Author: NEXT EXAM ONLINE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *