किसान आंदोलन: 30 दिसम्बर को केंद्र सरकार किसान संगठनों के साथ वार्ता करेगी

कृषि कानूनों पर गतिरोध को समाप्त करने के लिए केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच 30 दिसम्बर को बैठक आयोजित की जायेगी। इस बैठक में न्यूनतम समर्थन मूल्य, वायु गुणवत्ता से जुड़े कानूनों और बिजली पर चर्चा की जायेगी।

किसान आंदोलन
किसान आंदोलन

इससे पहले, इस सम्बन्ध में कृषि मंत्रालय ने किसान संगठनों को एक पत्र लिखा था, जिसमे बातचीत के माध्यम से विवाद को हल करने का ज़िक्र किया गया था। गौरतलब है अब तक अभी तक कोई समाधान प्राप्त नही हुआ है। इससे पहले, केंद्र सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि वह कृषि कानूनों में संशोधन करेगी। इस प्रस्ताव का विरोध करते हुए किसान संगठनों ने 6वें दौर की बैठक में भाग लेने से इनकार कर दिया था।

किसान विरोध क्यों कर रहे हैं?

किसान आंदोलन
किसान आंदोलन

भारत सरकार द्वारा पारित किये तीन कृषि सुधार विधेयकों के खिलाफ किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इन कानूनों को सितंबर 2020 में लागू किया गया था। इस कानूनों ने कृषि उत्पादों की बिक्री, मूल्य निर्धारण और भंडारण के नियमों में थोड़ी ढील दी है।

किसान आंदोलन
किसान आंदोलन

इन कानूनों से असहमति के कारण किसानों ने एक शांतिपूर्ण विरोध शुरू किया, इस आन्दोलन को ‘दिल्ली चलो’ नाम दिया है। इस विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व अधिकांश पंजाबी और सिख किसान कर रहे हैं।

किसानों की चिंता

किसानों को भय है कि नए कृषि बिल उनकी आजीविका के लिए खतरा हैं।

Join facebook page

स्काईरूट एयरोस्पेस बनी फुल सॉलिड प्रोपल्शन रॉकेट स्टेज का परीक्षण करने वाली पहली भारतीय निजी अन्तरिक्ष कंपनी

विराट कोहली बने दशक के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी, जीता सर गारफील्ड सोबर्स अवार्ड

विराट कोहली बने दशक के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी, जीता सर गारफील्ड सोबर्स अवार्ड

Author: NEO STUDY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *